Wednesday, January 6, 2010



आँख कितनी छोटी है
यही शायद 4-4 या 5-5 की
मुझे बड़ी आँख पसंद है
बिलकुल 6-6 की आँख
इसलिए , मैं अपनी आँख और बड़ी करना चाहती हूँ
शायद 7-7 तक की
कोई कैंची ब्लेड उठा कर
पर , कैसे करूँ यह सब

एक भी कैंची ब्लेड नहीं है पास
परोशी के पास है शायद
मांग के ले आई अपनी आँख बड़ी करने के लिए
अरे , इसमें तो धार ही नहीं है
बिलकुल धार नहीं है
आँख बड़ी नहीं हो पाई
पर कई जगह से छिल गयी है
खून निकल आया है यहाँ
खून पोछती हूँ पर , रुक नहीं रहा
घरवाले फटकार रहे हैं मुझे
तू जन्मजात छोटे आँखों वाली है
फिर आँखें बड़ी क्यों करना चाहती है ?
कैंची ब्लेड क्यों लगा रही है आँखों पर ?
अगर आँख फुट गई तो ?
मैं सोंचने लगती हूँ ....
पर मैं आँख बड़ी करना चाहती हूँ ......

9 comments:

  1. are meri laado jitni chadar ha utne pair pasaro.... are meri pyari mitr dnt wrry.... aakho ko bada krne k liye makeup-shakup ha n... aji hm sikha denge...
    ye to rahi mazak ki baat yogita...
    kafi alag expression ha kavita ka.. par piche chupe bhav ko me smjh nhi paa rahi...kya aap smjhayengi?
    shubhkamnaye...

    ReplyDelete
  2. दूसरों की नजरों से अपनी नजर बड़ी नहीं होती

    उसके लिए खुद आँख में बालू डालना पड़ता है।

    ढेर सारी शुभकामनाएँ निरंतर और सफल ब्लॉगरी के लिए।
    _____________

    word verification हटा सकें तो अच्छा हो।

    ReplyDelete
  3. इस नए वर्ष में नए ब्‍लॉग के साथ आपका हिन्‍दी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. आशा है आप यहां नियमित लिखते हुए इस दुनिया में अपनी पहचान बनाने में कामयाब होंगे .. आपके और आपके परिवार के लिए नया वर्ष मंगलमय हो !!

    ReplyDelete
  4. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी टिप्पणियां दें

    ReplyDelete
  5. नववर्ष की शुभकामनाओं के साथ द्वीपांतर परिवार आपका ब्लाग जगत में स्वागत करता है।
    pls visit...
    www.dweepanter.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. Swagat hai...! ..badee aankhe ho jayen to batana! Anytha na len...!

    ReplyDelete
  7. Badee aankhen to mujhe bhee achhee lagtee hain..par kya karen?

    ReplyDelete
  8. कैंची से आँखें बडी कैसे कर रही थी आप ? अच्छी कविता।

    ReplyDelete